कुँवारी चूत Archive

कमीना भाई : भाई ने चूत माँगा अपने बर्थडे पर और उसने मेरी चूत फाड़ दी बेरहमी से :- काजल

मेरा नाम काजल है, मैं 22 साल की हु और मेरा भाई रणवीर 21 साल का है. हम दोनों कानपूर में रहते है, घर में हम दोनों के अलावा सिर्फ मेरे मम्मी पाप रहते है. पापा रेलवे

कुँवारी चूत और दो लौड़े-जबरदस्त डबल चुदाई खून टपकता रहा वो दोनों बेरहम मुझे चोदते रहे :- प्रीति

मेरा नाम प्रीति है, रीवा की रहने वाली हूँ। मैं 19 वर्ष की कन्या हूँ, मेरे शरीर की बनावट 32-24-33 का है। कृपया कहानी पढ़ने के बाद प्रतिक्रिया जरूर भेजें। मुझे कम बोलने और ज्यादा चोदने वाले

मजाक मजाक में पहली बार चुत चोद डाला

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमरेन्द्र है और मेरे पड़ोस में एक १७-१८ साल की लड़की रहती थी, जिसका नाम मारिया था। में तब 12वीं क्लास में पढ़ता था और मारिया हमारे घर अक्सर आया जाया करती थी।

ऐसा मत करो वरना मै रंडी बन जाउंगी

हाय दोस्तों मेरा नाम राधे है में महेंद्रा टेक कम्पनी मे काम करता हूँ रोज सुबह ऑफीस निकल जाता हूँ और फिर रात मे अपने फ्लेट पर आता हूँ मेरा फ्लेट कुर्ला मे है इसी साल जॉब

होटल में दीदी की चूत बजायी

मेरा नाम विराट हैं।मैं मुंबई का रहने वाला हू। मै 19 साल का हु। मेरी एक दीदी हैं, जिसका नाम अनुषका हैं।वो 21 साल की हैं, शरीर से वो बिलकुल फिट हैं। दीदी की गांड और बूब्स

बारिश में दीदी की चूत फाड़ी

मेरा नाम राज है। मैं 21 साल का लड़का हूं। इससे पहले मैंने किसी लड़की के साथ सेक्स नहीं किया था। पर मुझे क्या मालूम था कि मुझे पहला प्यार खुद मेरे घर में मिलेगा। मेरी माँ

शिष्या की सील तोड़ चुदाई

बात उस समय की है जब मैं अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी कर रहा था। मैं उसी समय एक स्कूल में टीचर के रूप में भी काम करता था। मैं दसवीं तक के बच्चों को पढ़ाता था।

भैया के दोस्त ने मेरी सील तोड़ी

हैलो फ्रेण्डस.. मैं ज्योति.. नई दिल्ली में रहती हूँ, मेरी उम्र 23 साल है.. मेरे चूचे छोटी उम्र में ही बड़े हो गए थे.. शायद ये अपने आप हुए थे.. और मेरी गाण्ड गोल-गोल ऊपर को उठी

पायल की पहली चुदाई

हेल्लो मित्रो, माइसेल्फ ऋषि और मैं अपनी एक स्टोरी लेके आपके सामने हाजिर हु, कि कैसे मैंने अपनी बुआ कि बेटी कि सील तोड़के उसकी हवस मिटाई. मैं इस वेबसाइट का बहुत बड़ा फैन हु और पिछले

पहली बार अपने नौकर से चुदी

हेल्लो , मेरा नाम स्नेहा है. मैं अपनी पहली चुदाई की दास्तान लिख रही हूँ. उस समय मेरी उमर 18 साल की थी. मेरे घर पर मयंक नाम का एक नौकर रहता था. उसकी उमर लगभग 42