हेल्प करने के चक्कर में मिली गुलाबी चूत

हेल्लो झांट से भरी एवं क्लीन शेव्ड चूतों को मेरे लंड का सलाम | बाकी किसी भाई को बुरा लगे तो सॉरी क्यूँकी ये सलामी सिर्फ चूत वालो के लिए है | अब सभी भाइयों को मेरा नमस्कार और यदि भाभियाँ या कोई लड़की जिनकी खुजा रही है उनको भी मेरे लंड का नमस्कार |

अगर आपको मेरी कहानियों से कोई दिक्कत है तो लौड़े से अगर मेरे से दिक्कत है तो आओ और मेरा जन्नत का बाल उठा के ले जाओ जन्नत से एसा है कि मेरे झांट के बाल और लंड जन्नत से कम नहीं है अगर विश्वास नहीं है तो आओ और तो देख लो चुदवा के | समझ में आ जायेगा कि जन्नत कहाँ है क्योकि जितने लोग मेरी टांग के नीचे से आये है उन लोगों को जन्नत वही दिख गयी है | तो आपको में अपना परिचय दे देता हूँ मेरा नाम अभिलाष है और में जबलपुर का रहने वाला हूँ वह मैं कुछ काम ही नहीं करता इसलिए लोग मुझे नल्ला कहते हैं खैर यह तो हुई मेरी बात | अब बताता हूँ आपको अपनी रियल कहानी जिसने मुझे नल्ला से कामकाजी बना दिया |

xxx kahani,hindi sex story,antarvasna,Kamukta,kamukta. com,hindi sex stories

 

जैसा कि आपको बता चुका हूँ कि मैं कुछ् नहीं करता था इसलिये मेरे घर वालों ने मुझे बाहर भेज दिया पढाई करने | बताइए भला जो काम मैं घर मैं रह कर नहीं उखाड़ पाया वो मैं बाहर कैसे उखाड़ पाता | वहां पर भी मैं सिर्फ चूत मारने के चक्कर मैं रहता था धीरे धीरे तीन महीने निकल गए |  तभी अचानक मेरी लाइफ बदल गई क्युंकि मरती हुई जिन्दगी में एक उम्मीद जग गई | मेरी मकान के ठीक बगल में एक मैडम रहती थी जो बच्चों को कोचिंग पढाती थी | वो बहुत ही सेक्सी माल था मेरी नियत ख़राब हो रही थी | मैं हमेशा उसके मम्मो को याद करके और उसकी चूत कि कल्पना करके मुठ मारा करता था | एक मेरी बुरी आदत है कि मैं सिगरेट का सेवन करता हूँ | मैं रात को और सुबह के वक़्त रोज़ उसका सेवन करता हूँ एक दिन सुबह के वक़्त उसने मुझे सुबह सिगरेट पीते देख लिया और बिना कुछ कहे  चली गयी कुछ दिनों तक वो मुझे नज़र नहीं आई | एक दिन सुबह मैंने उसे छत पर देखा और गुड मोर्निंग विश किया उसने कोई जवाब नहीं दिया कई दिन तक यूँ ही चलता रहा | एक दिन में घर पर था तभी मेरे घर कि डोरबेल बजी | मैंने दरवाजा खोला और देखा कि वो ही बाजू वाली आई हुई थी मैंने उन्हें बहुत अच्छे से कहा कि आप अन्दर आइये फिर वो अन्दर आई और मैंने उन्हें पहले पानी दिया और फिर चाय पिलाया फिर मैं भी वहीँ बैठ के चाय पी रहा और उनसे मैंने पूछा कि हाँ बताइए जी क्या हुआ है ? आज आप पहली बार मेरे घर आई कोई प्रोब्लम है क्या ? तब उन्होंने बताया कि मेरे यहाँ एक सुजीत का नाम का लड़का आता है उसने नहाते हुए मेरी वीडियो बना लिया और वो मुझे बार बार सेक्स के लिए तंग करता है मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूँ ?

तो मैंने उन्हें कहा कि मैडम आप पुलिस के पास जाइये आप मेरे पास क्यूँ आई हैं ? मैं क्या कर सकता हूँ ? तब उन्होंने बताया कि अगर मैं पुलिस के पास जाउंगी तो मेरी बदनामी होगी इसलिए मैं तुम्हारे पास आई हूँ क्यूंकि मैंने देखा था जब तुमने उस लड़के को मारा था जब वो एक लड़की को छेड़ रहा था जबकि तुम तो उस लडकी को जानते भी नहीं थे | तो मैंने कहा कि मैडम आपने मुझे तब कैसे देख लिया था आप तो वहां थी नहीं | तब उन्होंने बताया कि मैं वहीँ थी पर तुम मुझे नहीं देख पाए थे | तो मैंने पूछा उनसे कि मैं क्या हेल्प कर सकता हूँ आपकी तो उन्होंने कहा कि तुम मेरे लिए लड़ाई मत करना पर प्लीज मेरे लिए इतना कर दो कि वो मुझे ब्लैकमेल करना बंद करदे और जो उसने वीडियो बनाया था वो डिलीट कर दे मैं तुम्हारी बहुत अहसानमंद रहूंगी | तो मैंने उनसे कहा कि मैडम आप एहसान मत मानिये मैं आपकी हेल्प कर दूंगा | अगले दिन सुबह जब वो लड़का आया तो मैंने उसे घर बुलाया पहले तो वो आ नहीं रहा था पर जब मैंने उसे गाली दे कर बुलाया तो तब वो आया | फिर मैंने उसे अन्दर बुलाया और तुरंत ही दरवाजा बंद कर दिया | उसने कहा भैया आपने दरवाजा क्यूँ बंद कर दिये तो मैंने कहा रुक तुझे बताता हूँ | मैं अन्दर से डंडा ले कर आया और उसको डंडे से पीटने लगा जोर जोर से उसके आंसू नहीं निकल गए तब तक मैं उसे पीटता गया | फिर मैने उससे कहा देख भाई तू जहाँ कोचिंग पढ़ता है वो मैडम मेरी रिश्तेदार है और तूने जो उनका वीडियो बनाया है और उन्हें जो तू ब्लैकमेल करता है बेटा सबसे पहले तो तू मेरे सामने वो वीडियो मिटा और फिर उनसे जा कर कान पकड़ के सॉरी बोल ठीक है | तो उसने वीडियो डीलीट किया और मैं उसे मैडम के पास ले कर गया और उनसे माफ़ी मंगवाई | मैडम मुझसे बहुत इम्प्रेस हो गयी थी और उसने उस लड़के को बी पढ़ाने से मना कर दिया था | धीरे धीरे मैं और वो मैडम जिनका नाम तरु था बहुत अच्छे दोस्त बन गए थे | फिर हम मोबाइल में भी बात करने लगे | एक दिन मैंने उन्हें वेलेंटाइन डे वाले दिन प्रोपोस किया और उन्होंने भी हाँ कर दी थी | फिर घूमना फिरना और मस्ती करना ये सब चलने लगा था हम रोज कहीं न कहीं घूमते थे और सारा खर्च मैडम ही उठाती थी | फिर मेरा जन्मदिन आया ओर तरु ने मुझसे पूछा कि तुम्हे जन्मदिन पर क्या तोहफा चाहिए तो मैंने कहा कि रात में तुम मेरे साथ रहो और मेरे साथ रह कर ही मेरा जन्मदिन मानाओ | वो तैयार हो गई थी, फिर मेरे जन्मदिन के एक दिन पहले वो मेरे घर रात को 10 बजे केक और कुछ खाने के आइटम ले कर आ गयी थी | हम दोनों बात कर रहे थे एक दूसरे की बाँहों में बाहें डाल कर बैठे रहे | फिर जैसे ही 12 बजे उसने मुझे मेरे जन्मदिन कि बधाई दी और कहा कि अब बोलो और क्या चाहिए | मैंने तुरंत ही उसको अपनी बांहों में भर लिया और उसको किस करने लगा उसे भी अच्छा लग रहा था इसलिए वो भी मेरा साथ देने लगी थी | हम दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे और यहाँ वहां चाट रहे थे और चूम रहे थे | 20 मिनट तक हम दोनों सिर्फ चुम्मा चाटी करते रहे, फिर मैंने उसके ऊपर का सूट उतारा और फिर उसकी ब्रा उतारा वो शर्मा रही थी पर मुझे मना नहीं कर रही थी | ब्रा उतारने के बाद मैं उसके एक दूध को ले कर चूस रहा था और दुसरे दूध को दबा रहा था और उसके निप्पल भी मसल रहा था और वो आहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्मम्म आहाह्हहा auuunnhhh ऊम्म्म अहहाआआ कर रही थी | फिर मैने दुसरे दूध को पीना चालू कर दिया और पहले वाले को मसल रहा था और वो लगातार uuummmhhऊम्म्ह्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्ह uuunnnhhआहहहाआ ऊम्म ऊउन्न आहाहा हाहाहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह करते जा रही थी | फिर मैंने उसका नीचे का लांचा उतारा तो मैंने देखा कि उसने पिंक कलर कि पेंटी पहनी हुई थी और उसमे से साफ़ दिख रहा था कि उसकी चूत गीली हो चुकी थी | फिर मैंने उसकी पेंटी निकाली और झट से अपनी जीभ लगा ली उसकी चूत पर और जोर जोर से अपनी जीभ से उसकी चूत को रगड़ने लगा और वो सिस्कारियां भरते जा रही थी | 15 मिनट तक उसकी चूत चटाई के बाद वो मेरे कपडे उतार के मेरे लंड को चूसने लगी | जब वो मेरा लंड चूस रही थी मुझे बहुत अच्छा लग रहा था ऐसा लग रहा था कि बस वो मेरा लंड चूसते जाये | 10 मिनट तक उसने मेरा लंड चूसी फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसके ऊपर लद कर उसके दूध को मसलने लगा और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी चूत में घुसेड दिया | फिर मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा और वो अहहाआअ अहाआआ अह़ा आहाहाआ अहहाआ हहाआअ आअहाआ और चोदो मुझे जोर जोर से चोदो अहहहाआअ अहहहः क्या लंड है रे तेरा | अह़ा अह़ा अहाहा अहाहा अहहः फाड़ दो मेरी चूत को अहाआहा अहहहहा अहाहा | मैं जोर जोर से उसकी चूत मारे जा रहां था उसे बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी | 20 मिनट की चुदाई की बाद मैं उसकी चूत में ही झड गया था | उस रात हम ने तीन बार चुदाई किये थे और तीनो बाद मैंने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ा था |

तो दोस्तों ये थी मेरी चुदाई कि दास्ताँ | कैसी लगी आप लोगों को मेरी ये कहानी उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी पसंद आयी होगी | और मैं कोशिश करता रहूँगा आप सभी को मजेदार कहानी भेजता रहूँ आगे भी |

2 Comments
  1. Rk Kaushik
    August 8, 2017 | Reply
  2. Raj Gill
    August 20, 2017 | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *