विधवा चिंकी आंटी को चोद चोद कर उनकी प्यास बुझाई

loading...

Bidhwa aunty ki chudai, chinki aunty ko choda.

मेरा नाम रोहित है, मै हरियाणा का रहने वाला हूँ।
मै रियलकहानी का नियमित पाठक हूँ। मैने भी सोचा कि मै भी अपनी कहानी दोस्तों के साथ शेयर करूँ, पर टाइम की कमी की वजह से नहीं लिख पाया था, पर आज आपके सामने ये कहानी शेयर करने जा रहा हूँ।

यह घटना उस समय की है, जब मै यूआईडी (आधार कार्ड) मे काम करता था। मेरी उम्र उस समय 20 वर्ष थी। तो मै एक गाँव मे काम करने गया। वहाँ हम स्कूल मे बैठ कर काम करते थे। हम 2 दोस्त थे, पर मेरा दोस्त कुछ ज़्यादा ही सीधा था, तो वो ज़्यादा मतलब नहीं रखता था। हम प्रिन्सिपल के रूम के साथ वाले कमरे मे बैठते थे और रात को स्कूल मे ही एक कमरे मे रुकने का इंतजाम हो गया था।

वहाँ 2 खाना पकाने वाली महिलाएं भी काम करती थीं, वो रोज हमारे लिए भी खाना बनाती थीं।
उनमे से एक मस्त माल किस्म की लुगाई थी, जिसकी कहानी मै इधर लिखने जा रहा हूँ। उसका नाम चिंकी है, उसका आधार कार्ड बनाते समय मै उसका हाथ पकड़े रहा और उसकी तरफ देखता रहा।

क्या गर्मी थी उसके हाथों मे, जब वो मेरी तरफ देखने लगी, तो मैने नज़र नीचे कर ली,
यह देख कर वो हँसने लगी।

यह मेरा उस गाँव मे दूसरा दिन था, इस तरह लंच के टाइम वो मुझे अपना फोन दिखाने लगी कि उसकी एक सिम से फोन नहीं मिल रहा है।
मैने सारी सैटिंग चैक की, पर सब ठीक था।
मैने कस्टमरकेयर मे पता किया, तो वहाँ से उसकी आउटगोइंग बंद थी।
उसने मेरा मोबाइल लेकर अपना नंबर डायल किया, तो उसके फोन पर कॉल आ गई।

मैने ध्यान नहीं दिया कि मेरा नम्बर उसके पास आ गया है।
उससे अगले दिन मै दोपहर तक खाना खाने नहीं गया, तो उसने मेरे पास कॉल की, कि कब आओगे।

मै एक घंटे बाद आया, मैने पूछा:- किसने कॉल की थी?
तो उसने बताया कि उसने कॉल की थी।

इसके बाद एक दिन अपना काम करने के बाद मै स्कूल मे क्रिकेट खेल रहा था तो मेरे पास उसकी कॉल आई।
इस तरह से उसके साथ मेरी बातें शुरू हो गईं। फिर कमरे पर आने के बाद उस दिन देर रात तक उससे बात की। अगले दिन भी ऐसे ही खेलते समय कई बार कॉल की।

मैने फोन बंद कर दिया, उसने अपनी जवान लड़की को मेरे पास भेजा, वो बोली:- मेरी मम्मी ने फोन चालू करने को कहा है, चाचा देखो, बंद हो गया होगा,
मै:- ठीक है, देखता हूँ।

मैने फोन चालू कर लिया।

कुछ देर बाद उसने फोन किया:- घर पर लैपटॉप ले आना,
‘तुम्हारा घर किधर है?’

उसने मुझे अपने घर का पता बता दिया। मै अपने दोस्त के साथ उसके घर पास परोहितचा, उसने बालकनी मे से हम दोनों को देखा और ऊपर से बोला, तो हम उसके घर मे गए।

कुछ देर मे दोस्त ने जाने को कहा, तो मैने उसे भेज दिया।
वो पूछने लगा:- तू?
‘मै अभी आऊँगा, काम है थोड़ा,’ मैने कहा।

मेरा दोस्त चला गया।

अब चिंकी मेरा फोन लेकर कहीं बात करने लगी। उसके घर मे 3 लोग ही थे। वो उसकी लड़की और उसकी सास, सास नीचे बाहरी कमरे मे रहती थी, और वो खुद ऊपर के हिस्से मे रहती थी।

उसके फोन पर बात करते समय मै उसके पैरों पर अधलेटा सा हो गया। वो फोन पर लगभग 30 मिनट तक बात करती रही। मै धीरे:-धीरे उसकी जाँघों को सहलाने लगा, उसने विरोध नहीं किया। मेरी हिम्मत बढ़ी, तो मैने सलवार के ऊपर से उसकी चुत पर हाथ फेरना शुरू कर दिया। उसने अब भी कुछ नहीं कहा और फोन पर बात करती रही।

मैने सलवार के अन्दर हाथ डाला तो उसने हाथ पकड़ कर हटा दिया।
मैने फिर सूट के ऊपर से ही उसके मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया, उसने कोई विरोध नहीं किया।
मैने उसके सूट के अन्दर हाथ डाला, तो उसने नहीं डालने दिया।

तो मै बोला:- प्लीज़ दर्शन तो करा दो, आगे नहीं बढूँगा,
वो नखरे करने लगी।

मैने अपनी टेक्निक से उसे पटा कर उसके मम्मे देख ही लिए, हाय क्या मम्मे थे, बिल्कुल गुलाबी।
अब वो कुरता नीचे करने लगी, तो मै बोला:- रुक न, अभी देखने तो दे।
फिर मै उन्हें मुँह मे लेकर चूसने लगा, तो वो फिर कपड़े नीचे करने लगी।

मैने उसे फुसला कर मना लिया और लगातर दूध चूसने लगा।
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

क्या मजा आया दोस्तो, उसके मम्मे वैसे छोटे आकार के थे, क्योंकि काफ़ी समय से किसी से चुत नहीं मरवाई थी उसने क्योंकि उसका पति शादी के कुछ साल बाद ही दुनिया छोड़ कर चला गया था।

मैने पूछा:- तुम्हारे गुब्बारे इतने छोटे कैसे हैं?
उसने बताया:- काफ़ी समय हो गया किसी ने दबाए नहीं न, इसलिए,

दस मिनट के बाद मै उसे किस करने लगा।

उसने कहा:- चल अब छोड़ दे, रात को करेंगे।
मैने कहा:- मै रात को इधर नहीं रुक सकता।
उसने कहा:- तू दोस्त को फोन करके कोई बहाना बना दे।
मैने फोन करके बोल दिया, कुछ देर बाद उसकी लड़की आई और खाना बनाया।
हम सभी ने साथ बैठ कर खाना खाया फिर वो लड़की टीवी देखने लगी।

वो बोली:- मुझे लैपटॉप चलाना सिखा दे,
मैने कहा:- ठीक है,
फिर बोली:- चल, दूसरे कमरे मे चल कर सिखा।
मै समझ गया कि इसे क्या सीखना है।

दूसरे कमरे मे आकर वो बोली:- ब्लू फिल्म चला न।
मैने कहा:- मै नहीं रखता, अगर देखनी है तो एक या दो दिन मे ले आऊँगा, आज तो ब्लू फिल्म जैसा करके दिखा सकता हूँ।
उसने कहा:- अच्छा इसमे कुछ गाने चला ले।
मैने चला दिए।

फिर शुरू हुई हमारी लव स्टोरी… मैने उसे अपनी बाँहों मे भर के गोद मे बिठा लिया और मैने उसकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया और बालों को सहलाता रहा।

कुछ देर बाद मैने उसके सूट के ऊपर से ही उसके मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया, उसने सिसकारी लेनी शुरू कर दी ‘आहह, उहा, एमेम,’

कुछ देर बाद मैने हाथ ब्रा के अन्दर डाल दिया।
क्या मस्त मजा आया, मै तो स्वर्ग मे था।

मैने उसका कुरता उतार दिया, और उसकी सलवार मे हाथ डाल दिया।

सहलाने के बाद उसकी चुत के उंगली डाल दी, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली:- मेरी डेट आई हुई है, अभी रहने दो।
मै चटक गया, बोला:- तुमने ही तो रुकने के लिए बोला था, मै अब नहीं रुकूँगा,
वो बोली:- चुत मारने मे प्राब्लम हो जाएगी, चल तू गाण्ड मार ले, चुत फिर कभी मार लेना।

पर मुझे तो चुत चोदने का खुमार चढ़ा हुआ था, फिर भी मैने गाण्ड मारने के लिए हामी भर दी।

अब मैने उसकी सलवार निकाल दी, वो केवल ब्रा और पैंटी मे थी।

मैने उसे खड़ी कर दिया, नंगी देसी लुगाई वाह्ह, क्या माल लग रही थी।
मै बोला:- मेरे सामने तू केवल यही कपड़े पहना कर, बहुत मस्त लग रही है।

उसने हँस कर मुझे धक्का दे दिया और बोली:- चल हट,
मै:- सच यार बहुत ही हॉट लग रही हो,

अब मैने उसके होंठों पर अपने होंठों को रख दिए और किस करने लगा। दस मिनट तक किस करने के बाद मैने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके चूचों को अपने हाथों से मसलने लगा और कुछ देर बाद एक चूचे को मुँह मे लेकर पीने लगा।

आह्ह, क्या मजा आया,

वो भी मजा लेते हुए मेरे लंड को सहला रही थी।
मैने पीछे से उसकी पैंटी को नीचे सरका दिया और निकाल दी, उसने जल्दी से भागकर लाइट बंद कर दी।
मै बोला:- ये क्या है?
तो चिंकी बोली:- मुझे अंधेरे मे ही पसंद है।

मैने लाइट ऑन करके उसे पीछे से पकड़ लिया, ताकि वो लाइट बंद ना करे।
अब मैने उसे लंड चूसने को कहा, तो उसने मना कर दिया और बोली:- मै ऐसे काम नहीं करती।
मै बोला:- बस गाण्ड मराती हो?
वो चुप रही।

मै:- या तो चूस ले, या फिर चुत मरवानी पड़ेगी।
वो लौड़ा चूसने लगी।
एक मिनट से पहले ही उसने मुँह हटा लिया। मैने उसे लिटा कर ताक़त से उसके मुँह मे लंड डाल दिया और अन्दर तक ठूंस दिया। उसने मुझे हटाया और आराम से चूसने लगी।
मुझे बहुत ही मजा आ रहा था।

बस 3:-4 मिनट के बाद मैने उसके मुँह मे ही सारा रस छोड़ दिया। उसने सारा नीचे थूक दिया और बोली:- ये क्या किया, बता नहीं सकता था?
मैने बोला:- सॉरी यार।

मैने उसे नीचे खड़ी करके घोड़ी बनने को कहा, वो घोड़ी बन गई। मेरा तो चुत मारने को मन कर रहा था, मै बोला:- अब भी देख ले, गाण्ड मे बहुत दर्द होगा, चुत मरवा ले,
उसने मना कर दिया।

मैने अपने लंड की टोपी उसकी गाण्ड के छेद पर लगा कर ज़ोर के झटके के साथ अन्दर घुसेड़ दिया।
वो जोर से चिल्लाई और बोली:- निकाल ले, बहुत दर्द हो रहा है।
मै बोला:- मैने कहा था ना, चुत मरवा ले, गाण्ड मे बहुत दर्द होगा।
वो बोली:- ठीक है गाण्ड मे से निकाल, और चुत मार ले।

मै बोला:- ठीक है, जरूर मारूँगा, पर किसी काम को मै अधूरा नहीं छोड़ता,
मै लगातार उसकी गाण्ड मारता रहा। मैने उसे चुतड़ नीचे करने को कहा।
उसने चुतड़ नीचे कर लिए।
मैने नीचे होकर जोरदार झटका दिया, वो फिर चिल्लाई।

मैने उसकी इसी तरह नीचे गाण्ड करवा कर दस मिनट तक गाण्ड मारी, वो रोती रही।

दस मिनट बाद मैने सारा पानी उसकी गाण्ड मे ही छोड़ दिया और बिस्तर पर उसके ऊपर पड़ा रहा।

कुछ देर बाद हम अलग हुए, वो बोली:- आगे से तुझे गाण्ड नहीं मारने दूँगी, तू नीचे कर:-करके बहुत दर्द देता है।
मै:- अभी तो रात बाकी है, एक ही तो ट्रिप हुई है।

मै उसे किस करने लगा, आधे घन्टे बाद ही मेरा लंड फिर से सलामी देने लगा।
मै उसके ऊपर आकर किस करने लगा और मम्मों को सहलाता रहा।

अब मै नीचे आया और उसकी चुत को पीने लगा।
वो बोली:- चुत मारने की मत सोच,
मैने कहा:- मैने देख लिया है, तेरी डेट:-वेट कुछ नहीं आई है, मै तो बस चुत पीऊंगा, मत देना चुत, तेरी मर्ज़ी।

मैने चुत फिर से पीनी शुरू की, क्या बताऊँ दोस्तो, क्या मजा आया।

आज तक मैने किसी खाने:-पीने की चीज़ मे भी ऐसा मजा नहीं पाया होगा। कुछ देर बाद वो मेरा सिर अपनी चुत पर दबाने लगी, और थोड़ी देर बाद वो बोली:- बस कर,
मै नहीं रुका, मुझे पता था वो गरम हो रही है।

कुछ देर बाद वो बोली:- स्वामी जी, अब नहीं रुका जा रहा।
पर मै लगातार चुत पीता रहा।

मुझे उसकी तड़प पर मजा आ रहा था। अब हम 69 की अवस्था मे थे, वो मेरा लंड पी रही थी और मै उसकी चुत।
अब वो बोली:- प्लीज़ मेरी चुत मे अपना लंड डाल दे, अब नहीं रुका जा रहा।

मै बोला:- तू तो चुत मरवाने से मना कर रही थी, अब क्या हुआ?
वो बोली:- बस यार अब मत तड़पा,

उसने टाँगें फैला दीं, मैने उसकी चुत की दरार पर लंड रख कर, वैसे ही फेरता रहा, ताकि वो ज़्यादा तड़पे और ज़्यादा मजा दे।

अब मैने उसकी चुत की दरार पर लंड रख कर जोरदार झटका दिया, मेरा आधा लंड चुत के अन्दर चला गया। उसकी चुत कसी हुई थी, वो उछल पड़ी और थोड़ी रोने लगी।

मै बोला:- साली क्यों नखरे कर रही है।
वो बोली:- काफ़ी दिन हो गए हैं, इसलिए दर्द हो रहा है।
मै बोला:- कितने दिन?
चिंकी:- पिछले कई महीनों से नहीं चुदी हूँ।
मै:- अच्छा।

फिर से मैने एक और झटका दिया और पूरा लंड अन्दर चला गया। उसे अब भी काफ़ी दर्द हुआ, पर वो सारा दर्द सह गई।

मैने उसके होंठों पर होंठों रख दिए, कुछ शांत होने पर मैने धीरे:-धीरे झटके लगाने शुरू किए। कुछ देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी और नीचे से चुतड़ उठा कर चुदने लगी।

अब वो बोली:- अहह, तेज़ी से झटके लगा, जैसे गाण्ड मारते समय मार रहा था।
मैने स्पीड बढ़ाई और 5 मिनट तक ऐसे ही चोदता रहा।

अब मै पलटी खा कर नीचे आ गया और उसे अपने ऊपर ले लिया। मैने उसके कूल्हे पकड़ कर उसे अपने लंड पर उछालने लगा, कुछ देर बाद वो खुद उछलने लगी।

मैने उसके चूचे पकड़ लिए और मसलता रहा, मुझे बहुत मजा आ रहा था, क्योंकि वो खुद उछल रही थी और मै उसके चूचों को मसल रहा था।

करीब 20 मिनट बाद मेरा पानी उसकी चुत मे ही निकल गया। मै उसके ऊपर आकर ऐसे ही लेटा रहा।

मैने 4 बजे तक उसे अलग:-अलग आसनों मे चोदा।
उसने तब अपनी लड़की को उठाया और मुझे बाहर तक छोड़ आने को कहा।
मै पैदल ही अपने ठिकाने पर 5 बजे तक परोहितच गया।

मैने उसके बाद भी उसको बहुत बार चोदा, और अब भी उधर जा कर उसको चोदता रहता हूँ।
मैने उसकी लड़की को भी चोदा, कैसे चोदा, उस कहानी को मै अपनी अगली कहानी मे लिखूँगा।

 

loading...
One Comment
  1. SATISH KULKARNI
    October 20, 2017 | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *