चैट द्वारा गांड की सील तुड़वाई

मैं भोपाल का रहने वाला हूँ, और मैं मेरी सेक्स स्टोरी की कहानी बड़े चाव से पढता हूँ। रंडीबाजी और गांडू वाली शीर्षक मुझे बहुत पसंद है!

जो कहानी! मैं लिखने जा रहा हूँ वो 100 प्रतिशत सच है! और आज से करीब 4 साल पहले की है! तब मैं 20 साल का था।

मेरी चुदाई से लड़कियाँ दुबारा चुदना चाहे

मेरा रंग गोरा है, और दिखने में काफी आकर्षक हूँ! शरीर उस समय पतला दुबला मस्त था। ऐसा इसलिए कह रहा हूँ! क्योंकि कई सारी लड़कियाँ मुझ पर मरती थी।

मैंने कई सारी लड़कियाँ पटाई भी हैं, और चुदाई भी की है। जो भी मुझसे चुदती हैं! मुझे दुबारा चुदाए बिना नहीं रह पाती!

मेरी लंबाई 5′ 11″ है, बस उस समय मेरा वज़न सिर्फ 58 रहा होगा! मतलब कि मैं काफी दुबला पतला था! जैसा कि मैं आपको बता चुका हूँ।

चैट में लड़कों के मोटे लण्ड देखना पसंद

मेरा सारा ध्यान बस लड़कियों पर होता था! पर फिर कुछ अलग करने का मन हुआ! मैंने नेट पर गांडू वाली विडियो देखी! मुझे वो अच्छी और आकर्षक लगी!

अब मैंने याहू चैट पर गे चैट शुरू कर दी! और विडियो चैट पर कई तरह के लड़कों से बात की! उन्होंने अपने लण्ड मुझे दिखाए! जो मुझे काफी अच्छे लगते थे!

मैं रोज़! उन लोगों के मोटे और तगड़े लण्ड देख कर! मुठ मारा करता था! और सोचता! कि गांड मराने में और लण्ड चूसने में कैसा लगता होगा ? तरह तरह के लण्ड देख! कर मेरे मुह में पानी आता था!

हालांकि! मैं मजबूर था! क्या करता ??

मेरी गांड की खुजली मिटाने वाला मिला

एक दिन याहू चैट पर मुझे एक लड़का मिला! जो कि गांडू था! और मेरे ही शहर का था! चैट पर उसने मुझे अपना लण्ड दिखाया! उसके लण्ड को देखते ही मैं मंत्र मुग्ध हो गया!

उसका लण्ड सचमुच में करीब ८ इंच का लण्ड था! हम कुछ दिन चैट करते रहे! और फिर एक दिन उसने मुझे अपने रूम पर बुलाया!

पहले! तो मैं तैयार हो गया! पर फिर वो गे कहानियाँ याद आई! जिसमें कुँवारी गांड की सामूहिक चुदाई हुई थी! वैसे भी मेरा यह पहली बार था!

मेरे मन में बदनामी और कई तरह के डर दिमाग में थे! मैंने उसे अपने घर के पास बुलाया! जहाँ काफी खेत हैं। गर्मियों का समय था! तो मैंने उसे रात 8 बजे बुलाया!

मैंने अपनी गांड चुदाई के लिए बुलाया

वो मेरी बताई हुई! जगह पर बाईक लेकर आ गया। और हम अपने तय किए हुए जगह पर चल पड़े!

जहाँ हम गए थे! वहाँ काफी अँधेरा था और काफी सुनसान भी था! हम खेत में पहुँचे! तो उसने बिना देर किए, मुझे पूरा नंगा कर दिया!

उसके बाद वो खुद भी नंगा हो गया! अँधेरे में मैं उसका लण्ड साफ़ देख नहीं पा रहा था! हालांकि! मुझे लण्ड मुँह में लेने की बड़ी तम्मन्ना थी!

मोटे लण्ड चूसने का बहुत मजा

मैंने बिना देर किए उससे पूछा- लण्ड चूसूँ!

उसके कहा- हाँ! उसके हाँ! कहते ही मैंने उसका लण्ड मुँह में ले लिया! उसके लण्ड को हाथ में लेते ही समझ गया था! लण्ड बहुत मोटा और लम्बा है!

चूँकि! मैने ब्लू फिल्म इतना देख रखा था! कि मुझे कोई परेशानी नहीं हुई। अब मैं गपा-गप! उसका लण्ड चूसने लगा।

उसके मुँह से आनन्द की आवाजें आने लगी! 5 मिनट तक! चूसने के बाद उसने मेरे मुख में वीर्य का गाढ़ा सा धार छोड़ दिया!

लण्ड का गाढ़ा माल पीने का मजा

उसका गर्म वीर्य का स्वाद! जब मैंने चखा! आहा! पूछो ही मत! कितना मजा आया! मैं पूरे वीर्य को! चाट चाट कर पी गया!

अब बारी मेरी कुंवारी गांड की चुदाई की थी! मैं मन ही मन बहुत खुश हो रहा था! आज मेरी गांड की सील टूटेगी!

अब वो मेरी गांड को सहलाने लगा! मुझे इतना आनन्द आया! कि मैं अपनी आँखें बन्द कर उस मदहोशी को महसूस कर रहा था!

उस लौंडू से मेरी गांड चुदाई नहीं हो पाई

वो अब मेरी गांड में उंगली करने लगा! मेरा पूरा बदन अकड़ गया! अब मैं उसके लण्ड को पकड़कर खुद अपनी गांड के छेद में लगाने लगा!

उसके लौड़े को अपनी गांड में घुसाने लगा! उसे बहुत दर्द होने लगा! वो डर कर एकदम से भाग गया!

अफ़सोस! वो चुतिया लौंडू निकला! उसे चोदना ही नहीं आता था! उस समय बिना क्रीम या तेल के इतना बड़ा लण्ड मेरी कुंवारी गांड में जाना नामुमकिन था!

मजबूरवश! मेरी गांड की चुदाई हो ही नहीं पाई!

मेरे गांड की सीलतोड़ चुदाई का मजा

कुछ समय बाद! मुझे एक और गे मिला! जिसने मेरी गांड मार! मेरी गांड की सील खोल डाली! उसका लण्ड ज्यादा मोटा नहीं था!

मुझे चुदने में आसानी हुई! मुझे बहुत मजा आया! उससे अपनी कुँवारी गांड की चुदाई करवाने में!

मैं उसके लण्ड का दीवाना हो गया था! उसका लण्ड भी मैंने खूब चूसा! बड़े बुजुर्ग सही कहते हैं! ऊपर वाला जब भी देता है! छप्पर फाड़ कर देता है!

वो सब भी आपको बताऊँगा! पर पहले इस सच्ची कहानी के बारे में अपनी राय दे!

वैसे अब! मैं काफी गठीला और हट्टा कट्टा हो गया हूँ! पहले से और भी आकर्षक!

लण्ड चूसना! मुझे आज भी पसंद है! पर कोई भरोसेमंद नहीं मिला, आज भी तलाश जारी है!

नमस्कार!!

2 Comments
  1. June 21, 2017 | Reply
  2. Rk kaushik
    June 22, 2017 | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *