चाची के साथ एक रात

loading...

चाची को बगल वाले पडोसी के साथ रंगे हाथों पकड़ कर उनके साथ meri chudai फिक्स किया और उससे पहले मैंने उनके चूचों को पकड़ कर उनसे मसलने की अनुमति ले ली थी..

मेरा नाम रोहित है । मै इस कहानी में अपने चाची को चोदा था बस एक रात उसी का जिक्र है । मेरी चाची 26 साल की है । मैं 19 साल का था जब मैंने चाची को चोदा था ।

मेरा एक संयुक्त परिवार है । मेरे सबसे छोटी चाची जिनका नाम सरिता है । वो दिखने में काफी सुन्दर है । उनके शरीर का आकर । ऊँचाई 5 फ़ीट होगी । उनकी चूचियाँ 32 कमर 26 और चूतड़ 30 होगा । गोरा रंग है उनका ।

हालांकि मैं उनके बारे में कभी गलत नहीं सोचा था । पर उन्होंने एक नया मोबाइल लिया और मेरे से उसमे के कुछ फंक्शन सीखा करती थी । उनको मोबाइल चलाने उतना अच्छे से नहीं आता था ।

एक दिन मैंने जब उनको मोबाइल में कुछ बता रहा था तो उनके मोबाइल पर एक नंबर से मैसेज आया ।
मैंने देखना चाहा पर उन्होंने मोबाइल बंद कर दिया और मेरे को कहा ‘एक सहेली का मेसेज है । पढ़ लेने दो..’ मैंने कहा ‘ठीक है पढ़ लीजिये..’ । उसके बाद मै वहा से चला आया ।

उसके बाद जब शाम को सब कोई खाना बन रहा था तो मैंने उनके मोबाइल में गाना सुनने के लिए बिना चाची से पूछे ले लिया । तब मैंने सोचा की जरा देखूं की कौन वह मेसेज किया था ।

जब मैंने मैसेज खोला तो मेरी आँखें खुली की खुली रह गयी । मैसेज में लिखा था ‘अपनी चूत और चूची की फ़ोटो भेजो..’ उसके निचे चाची लिखी थी ‘कल भेज दूंगी..’
जब मैंने देखा तो वो नंबर घर के बगल वाले एक चाचा जी का था । तब मैं समझ गया की चाची उनसे पटी हुई है ।

मैं भी चाची की नंगी फ़ोटो देखने की सोची अगले दिन जब शाम को उनका मोबाइल देखा तो उसमें उनकी दो नंगी तस्वीर थी जो उन्होंने सेंड किया था । मैं भी अब चाची को चोदने की सोचने लगा । फिर मैंने जल्दी से उन फोटो को अपने मोबाइल में सेंड कर लिया।

उसके बाद अगले दिन फिर चाची मेरे से कुछ पूछने आई । तो मैं मज़ाक में उनके जांघ पर और कमर पे हाथ रखने लगा ।
उसके बाद जब मैंने चाची को कहा की ‘आपकी की कुछ फ़ोटो मैरे पास है देखेंगी..?’ उनको कुछ भी पता न होने के कारण उन्होंने पूछा ‘कैसी फ़ोटो..? दिखाओ।’

जब मैंने उनको फ़ोटो दिखाया तो वो डर गयी । चाची ने कहा ‘ये फ़ोटो तुमको कहाँ से मिली..’ तो मैंने उनको बोला की ‘मैं आपका मेसेज पढ़ लिया था और ये बात मैं चाचा को बताऊंगा..’
इस पर चाची डर गयी और बोली ‘जो तुमको चाहिए मैं दूंगी।’
मैं ने कहा ‘चाची मेरे को भी बस एक बार अपने शरीर को भोगने के लिए दे दो।’
इस पर चाची ने कहा ‘देखो अगर तुम ये वादा करो की मेरे को भोगने के बाद तुम ये बात अपने चाचा को नहीं बताओगे तो मैं कुछ सोच सकती हूँ..’

मेरे को तो बस कैसे भी उनको चोदना था । तो मैंने कहा ‘ठीक है पर पूरी रात आपको मेरे साथ चुदना होगा..’ तो उन्होंने कुछ सोच कर कहा ‘ठीक है..’
तो मैंने पूछा ‘किस रात आप मेरी होंगी..?’ तो उन्होंने कहा ‘वो रात आने से पहले तुमको मैं बता दूंगी’ मैंने कहा ‘ठीक है पर जब तक वो रात न आये आप मेरे को अपनी चूचियाँ और चूत को छूने देंगी ।’ ये कहते ही मैंने उनकी बायीं चूची को पकड़ लिया ।

फिर चाची ने कहा ‘मेरी भी एक शर्त है की उस रात के बाद तुम मेरे को कभी नहीं छुवोगे..’
मैं भी मान गया ।

अब जब भी मौका मिलता उनको पीछे से पकड़ के खूब उनकी चूची दबता था । उनकी चूत में ऊँगली करता था ।
आखिर वो रात आ ही गई जिसका मेरे को इंतज़ार था । चाचा को धान कूटने रात को ट्यूबवेल पर जाना था । उस रात पूरी रात चाचा को लगने वाला था काम में ।
मैंने चाची को आँख मार कर पूछा ‘चाची वो रात कब आएगी..?’
तो चाची ने कहा ‘ठीक है आज रात जब सब सो जाए तो छत पे आ जाना..।’ मैं बहुत खुश हुआ की आज रात चाची को जी भर के चोदुंगा ।

रात के 12 बजे मेरी मोबाइल की घंटी बजी । मैंने देखा तो चाची ने मैसेज किया था ‘नहीं भोगोगे मेरे को..?’ मैं समझ गया की चाची छत पे पहुँच गयी है ।
मैंने फिर चाची को मैसेज किया ‘दो मिनट में आ रहा हूँ..’

फिर मैं उठ कर छत पे गया देखा तो वहां चारपाई पर चाची लेटी हुई थी । मैं उनके पास जा कर लेट गया और उनके चूची को दबाने लगा । फिर उनकी साड़ी को ऊपर उठाया और चूत पे उंगलियां फेरने लगा ।
फिर मैंने चाची को याद दिलाते हुए कहा ‘चाची आज आप मेरी है । मैं जैसा कहूँगा वैसा करियेगा न..’ चाची ने ‘हाँ..’ में जवाब दिया ।

फिर मैंने अपनी सारे कपडे उतार कर चाची को भी अपने कपडे उतारने को कहा । चाची अपने कपडे उतार कर एक तरफ रख कर लेट गयी ।
फिर मैं 69 जैसा लेट गया और चाची को अपना लंड चूसने को कहा और मैं उनकी चूत पे मुँह रख दिया जिससे के मुह से ‘आह..’ निकल गई । ने मेरा लंड अच्छे से चुसा फिर मैं 5 मिनट बाद उनको चोदने को उठा तो चाची ने अपनी कही हुई बात याद दिलाई ।

उसके बाद मैंने उनको हाँ कहा और उनकी टांगों को एक दूसरे से दूर फैला कर बीच में जा कर अपना लंड उनकी चूत पे सेट किया और एक जोरदार झटका मारा । उनकी चूत उतनी टाइट नहीं थी ।फिर भी ठीक ठाक थी । अंदर पूरा गरम था ।
मैं शॉट लगाना शुरू किया । चाची को भी मज़ा आ रहा था वो भी मेरे को दोनों हाथों से कस लिया । 15 मिनट बाद मेरा पानी निकले वाला था । मैंने चाची से पूछा ‘अंदर ही निकाल दूं..’ ‘तो उन्होंने हाँ में जवाब दिया और मैं 10 -12 शॉट्स के बाद उनपर ढेर हो गया ।

ये थी मेरी पहली सेक्स कहानी जो मैंने अपनी ही चाची के साथ किया था ।

दोस्तों मैं जब से अपनी चाची को किसी बगल वाले से पकड़ा तो उनक्से साथ meri chudai के सपने देखने लगा जो आखिर में पूरा हो गया और चाची मुझसे चुदकर खुश हो गई.. आप सबों को कैसी लगी मेरी एक रात अपनी चाची के साथ अपने कमेंट्स जरुर शेयर करें..

loading...
One Comment
  1. June 20, 2017 | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *